Thursday, April 8, 2010

132. अब इंतज़ार नहीं.../ ab intzaar nahin...

''अब इंतज़ार है'' की दूसरी कड़ी...


अब इंतज़ार नहीं...

*******

ज्यों मौसम ने करवट बदली
लौट आये सब पखेरू प्रवासी,
देख अमवा(आम) की गाछी(पेड़) मंजराई
मेरे मन ने ली कुहुकती अँगड़ाई !

शब्द भी आये होंगे वापस मेरे
भर उत्कंठा मैं दौड़ी हाथ पसारे,
मेरे शब्द ले गये थे पखेरू, संग अपने
पर छोड़ आये कर ज़ख़्मी, वो सागर तीरे !

भागी अपने शब्द माँगने, पखेरुओं के पास
हँस कर किया उन्होंने, बड़ा निष्ठुर परिहास,
त्याग दूँ, अपने शब्दों की वापसी की आस
क्यों किया किसी अप्रवासी पर, मैंने विश्वास !

प्रवासी पंछी तो ले गये थे, मेरे शब्द
कैसे कहती कुछ, मैं ठहरी रही बेशब्द,
मैं थी मौन, मेरी संवेदना नहीं निःशब्द
कैसे कहूँ मन की पीड़ा, मेरी भाषा अशब्द !

संतप्त मन की व्यथा, ओ पाखी, तू समझता नहीं
शब्द भले छीन गये मुझसे, पर मेरे जज़्बात नहीं,
मन के कोलाहल से मुझे, अब कभी निजात नहीं
मेरे शब्दों की वापसी का मुझे, अब इंतज़ार नहीं !

- जेन्नी शबनम (5. 4. 2010)

___________________________________________

ab intzaar nahin...

*******

jyon mausam ne karwat badli
laut aaye sab pakheru prawasi,
dekh amwa(mango) ki gaachhi( tree) manjraai
mere mann ne li kuhukti angdaai.

shabd bhi aaye honge waapas mere
bhar utkantha main daudi haath pasaare,
mere shabd le gaye they pakheru, sang apne
par chhod aaye kar zakhmi, wo saagar teere.

bhaagi apne shabd maangne, pakheruon ke paas
hans kar kiya unhone, bada nishthur parihaas,
tyaag dun, apne shabdon kee waapasi ki aas
kyon kiya kisi aprawaasi par, maine vishwaas.

prawaasi panchhi to le gaye they, mere shabd
kaise kahti kuchh, main thahri rahi beshabd.
main thee maun, meri samvedna nahin nihshabd
kaise kahun mann kee peeda, meri bhaasha ashabd.

santapt mann ki vyatha, o paakhi, tu samajhta nahin
shabd bhale chhen gaye mujhse, par mere jazbaat nahin,
mann ke kolaahal se mujhe, ab kabhi nijaat nahin
mere shabdon ki waapasi ka mujhe, ab intzaar nahin.

- jenny shabnam (5. 4. 2010)

_____________________________________________________

4 comments:

kshama said...

प्रवासी पंछी तो ले गये थे, मेरे शब्द
कैसे कहती कुछ, मैं ठहरी रही बेशब्द,
मैं थी मौन, मेरी संवेदना नहीं निःशब्द
कैसे कहूँ मन की पीड़ा, मेरी भाषा अशब्द !
Wah! Mujhe nishabd kara diya aapne!

संजय भास्कर said...

मेरे शब्दों की वापसी का मुझे, अब इंतज़ार नहीं !

बहुत खूब, लाजबाब !

r said...

Ati Sunder Jenny Sis.
Shab Tehar gaye zazbaat sambhle na sambhalte rahe;
Vythakul Mann Hyradya me Soz K Nazm Utarte rahe|
Mai Kaise Kahun Apne DIl ki daastan ko;
K Mujhe Padhkar Bji Log Sanjh K bhi Nasamajh bante rahe|

Priya said...

Haan kisi talash mein panchiyon kaa aanna aur fir zindgi ki kala sikha ud jaana...Pakshi Vihaar mein har saal pakshi aate hai...bahut sukhad hota hai wo anubhav.संतप्त मन की व्यथा, ओ पाखी, तू समझता नहीं
शब्द भले छीन गये मुझसे, पर मेरे जज़्बात नहीं,
मन के कोलाहल से मुझे, अब कभी निजात नहीं
मेरे शब्दों की वापसी का मुझे, अब इंतज़ार नहीं ! AApko intezaar ho na ho....hamein to rahta hai aapke shabdo ka intezaar...Ishwar aapki lekhi ko samvedna se paripoorn rakhe