बुधवार, 8 अगस्त 2012

363. जो सिर्फ मेरा (क्षणिका)

जो सिर्फ मेरा
(क्षणिका)

*******

ज़िन्दगी का अर्थ 
किस मिट्टी में ढूंढें ?
कौन कहे कि आ जाओ मेरे पास 
रिश्ते नाते 
अपने पराये 
सभी बेपरवाह
किनसे कहें कि एक बार मुझे याद करो
मुझे सिर्फ मेरे लिए 
बहुत चाहता है मन 
कहीं कोई अपना 
जो सिर्फ मेरा...

- जेन्नी शबनम (अगस्त 8, 2012)

___________________________

15 टिप्‍पणियां:

expression ने कहा…

कसक उठती है मन में...अकसर..शायद सभी के...किसी के पास नहीं कोई ऐसा जो सिर्फ उसका हो!!!!!

अनु

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

kabhi aisa bhi hota hai ki koi apna paas hi hota hai ...........

kshama ने कहा…

किनसे कहें कि एक बार मुझे याद करो
मुझे
सिर्फ मेरे लिए
बहुत चाहता है मन
कहीं कोई अपना
जो सिर्फ मेरा...
Sach.....istarah man to bahut karta hai!

***Punam*** ने कहा…

रिश्ते नाते
अपने पराये
सभी बेपरवाह
किनसे कहें कि एक बार मुझे याद करो !

खूबसूरत अभिव्यक्ति...

PRAN SHARMA ने कहा…

SUNDAR BHAVABHIVYAKTI KE LIYE BADHAAEE AUR SHUBH KAMNA .

Ramakant Singh ने कहा…

किनसे कहें कि एक बार मुझे याद करो
मुझे
सिर्फ मेरे लिए
बहुत चाहता है मन
कहीं कोई अपना
जो सिर्फ मेरा...

हम ईन पलों के लिए बहुत कुछ कह सकते हैं किन्तु कभी कुछ भी नहीं कह पाते तब आपकी बातें एकदम सही लगती हैं

Madan Saxena ने कहा…

बहुत सराहनीय प्रस्तुति.


http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/

kshama ने कहा…

Apne chaahne se kuchh haasil ho jata to phir kya baat thee! Behad sundar rachana!

डा. गायत्री गुप्ता 'गुंजन' ने कहा…

उस किसी एक की चाहत हर किसी के मन में होती है, जो सिर्फ और सिर्फ आपका हो...

Reena Maurya ने कहा…

गहरे अहसास
कोमल से भाव व्यक्त करती
सुन्दर रचना...
:-)

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति! मेरे नए पोस्ट "छाते का सफरनामा" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। धन्यवाद।

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

:)

राजेश सिंह ने कहा…

आपकी इस बेहतरीन कविता ने एक पुराने गीत की याद दिला दी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
याद किया दिल ने कहाँ हो तुम ,झूमती बहार है कहाँ हो तुम
प्यार से पुकार जो जहाँ हो तुम ,,,,,,,,,,,,,,,,,

Bharat Bhushan ने कहा…

हर मन की यह चाहत होती है जिसे आपने व्यक्त किया है. यह प्रामाणिक अनुभूति है. बहुत खूब.

Madhuresh ने कहा…

Wah! behad umda khayaal.. !!