Saturday, July 13, 2013

411. सन्नाटे के नाम ख़त (10 हाइकु)

सन्नाटे के नाम ख़त (10 हाइकु)

*******

1.
सन्नाटा भागा
चुप्पी ने मौन तोड़ा, 
जाने क्या बोला !

2.
कोई न आया 
पसरा है सन्नाटा 
मन अकेला !

3.
किसे फुर्सत ?
चुप्पी की बात सुने
चुप्पी समझे !

4.
चुप्पी भीतर 
सन्नाटा है बाहर
खेलता खेल !

5.
दूर देश में  
समुन्दर पार से 
चुप्पी है आई ! 

6.
खत है आया 
सन्नाटे के नाम से, 
चुप्पी ने भेजा ! 

7.
बड़ा डराता 
ये गहरा सन्नाटा 
ज्यों दैत्य काला !

8.
चुप्पी को ओढ़   
हँसते ही रहना,  
दुनियादारी !

9.
खिंचे सन्नाटे 
करते ढ़ेरों बातें 
चुप-चुप-से !

10.
क्या हुआ गुम ?
क्यों हुए गुमसुम ?
मन है मौन !

- जेन्नी शबनम (जून 21, 2013)

______________________________

15 comments:

PRAN SHARMA said...

SANNATE KE NAAM KHAT PADH KAR BAHUT
ACHCHHA LAG RAHAA HAI.

Dr. sandhya tiwari said...

very nice hyku

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

क्या हुआ गुम ?
क्यों हुए गुमसुम ?
मन है मौन...

बहुत खूब,सुंदर हाइकू ,,,

RECENT POST : अपनी पहचान

कालीपद प्रसाद said...

बहुत खूब ,सुन्दर हाइकू !
latest post केदारनाथ में प्रलय (२)

shorya Malik said...

बहुत ही सुंदर हाइकू , शुभकामनाये ,

यहाँ भी पधारे ,

रिश्तों का खोखलापन
http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

Shalini Kaushik said...

मन को गहराई तक छू गयी .बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति आभार अभिनेता प्राण को भावपूर्ण श्रृद्धांजलि -शालिनी कौश....आप भी पूछें सन्नो व् राजेश को फाँसी की सजा मिलनी चाहिए
.
नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सन्नाटे पर गजब के हाइकु

Madhuresh said...

चुप्पी को ओढ़
हँसते ही रहना,
दुनियादारी !

बेहतरीन!

tbsingh said...

खिंचे सन्नाटे
करते ढ़ेरों बातें
चुप-चुप-से ! sachmuch sannata bhi awaz karta hai.

Maheshwari kaneri said...

सन्नाटा भी बोल पड़ा..

Ramakant Singh said...

सन्नाटे और संवाद के बीच सुन्दर हाइकु

Mahi S said...

सारे हाइकु लाजवाब...

सदा said...

खिंचे सन्नाटे
करते ढ़ेरों बातें
चुप-चुप-से !
बहुत खूब

दिगम्बर नासवा said...

कितना कुछ कह के भी चुप करा गए ये छोटे छोटे छंद ... बहुत लाजवाब ...

कवि किशोर कुमार खोरेन्द्र said...

bahut khub sis