शनिवार, 13 जुलाई 2013

411. सन्नाटे के नाम ख़त (10 हाइकु)

सन्नाटे के नाम ख़त (10 हाइकु)

*******

1.
सन्नाटा भागा
चुप्पी ने मौन तोड़ा, 
जाने क्या बोला !

2.
कोई न आया 
पसरा है सन्नाटा 
मन अकेला !

3.
किसे फुर्सत ?
चुप्पी की बात सुने
चुप्पी समझे !

4.
चुप्पी भीतर 
सन्नाटा है बाहर
खेलता खेल !

5.
दूर देश में  
समुन्दर पार से 
चुप्पी है आई ! 

6.
खत है आया 
सन्नाटे के नाम से, 
चुप्पी ने भेजा ! 

7.
बड़ा डराता 
ये गहरा सन्नाटा 
ज्यों दैत्य काला !

8.
चुप्पी को ओढ़   
हँसते ही रहना,  
दुनियादारी !

9.
खिंचे सन्नाटे 
करते ढ़ेरों बातें 
चुप-चुप-से !

10.
क्या हुआ गुम ?
क्यों हुए गुमसुम ?
मन है मौन !

- जेन्नी शबनम (जून 21, 2013)

______________________________

15 टिप्‍पणियां:

PRAN SHARMA ने कहा…

SANNATE KE NAAM KHAT PADH KAR BAHUT
ACHCHHA LAG RAHAA HAI.

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

very nice hyku

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

क्या हुआ गुम ?
क्यों हुए गुमसुम ?
मन है मौन...

बहुत खूब,सुंदर हाइकू ,,,

RECENT POST : अपनी पहचान

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत खूब ,सुन्दर हाइकू !
latest post केदारनाथ में प्रलय (२)

shorya Malik ने कहा…

बहुत ही सुंदर हाइकू , शुभकामनाये ,

यहाँ भी पधारे ,

रिश्तों का खोखलापन
http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

Shalini Kaushik ने कहा…

मन को गहराई तक छू गयी .बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति आभार अभिनेता प्राण को भावपूर्ण श्रृद्धांजलि -शालिनी कौश....आप भी पूछें सन्नो व् राजेश को फाँसी की सजा मिलनी चाहिए
.
नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सन्नाटे पर गजब के हाइकु

Madhuresh ने कहा…

चुप्पी को ओढ़
हँसते ही रहना,
दुनियादारी !

बेहतरीन!

tbsingh ने कहा…

खिंचे सन्नाटे
करते ढ़ेरों बातें
चुप-चुप-से ! sachmuch sannata bhi awaz karta hai.

Maheshwari kaneri ने कहा…

सन्नाटा भी बोल पड़ा..

Ramakant Singh ने कहा…

सन्नाटे और संवाद के बीच सुन्दर हाइकु

Mahi S ने कहा…

सारे हाइकु लाजवाब...

सदा ने कहा…

खिंचे सन्नाटे
करते ढ़ेरों बातें
चुप-चुप-से !
बहुत खूब

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कितना कुछ कह के भी चुप करा गए ये छोटे छोटे छंद ... बहुत लाजवाब ...

कवि किशोर कुमार खोरेन्द्र ने कहा…

bahut khub sis