Monday, December 23, 2013

431. मन (10 हाइकु)

मन (10 हाइकु)

*******

1.
मन में बसी
धूप सीली-सीली-सी
ठंडी-ठंडी सी ।

2.
भटका मन
सवालों का जंगल
सब है मौन ।

3.
शाख से टूटे
उदासी के ये फूल
मन में गिरे ।

4.
बता सबब
अपने खिलने का,
ओ मेरे मन 

5.
मन के भाव
मन में ही रहते
किसे कहते ?

6.
मन पे छाया
यादों का घना साया,
ख़ूब सताया ।

7.
कच्चा-सा मन
जाने कैसे है जला
अधपका-सा ।

8.
सोच का मेला
ये मन अलबेला
रातों जागता ।

9.
यादों का पंछी
डाल-डाल फुदके
मन बौराए ।

10.
धीरज पगी
मादक-सी मुस्कान
मन को खींचे 

- जेन्नी शबनम (13. 12. 2013)

__________________________

10 comments:

Ramakant Singh said...

So nice heart touching

Anupama Tripathi said...

मन में बसी
धूप सीली-सीली-सी
ठंडी-ठंडी सी

बहुत सुंदर और भावपूर्ण भी ....!!

Reena Maurya said...

बहुत ही अच्छे और बेहतरीन हाईकू ...
:-)

Rajesh Kumari said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २४/१२/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी,आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है।

tbsingh said...

nice lines

Asha Saxena said...

बहुत शानदार |
आशा

Rajput said...

एक से एक
लाजवाब हाइकु
लिखे आपने

बहुत उम्दा हाइकु

कालीपद प्रसाद said...

बहुत सुन्दर !मन के भिन्न भिन्न पहलू पर आप ने प्रकाश डाला !
नई पोस्ट चाँदनी रात
नई पोस्ट मेरे सपनों का रामराज्य ( भाग २ )

Ramakant Singh said...

अपनी कहानी खुली खुली

tbsingh said...

sach men sawal kai hain jinke jawab hame talashane hain . sunder rachana