Monday, February 18, 2013

382. जाड़ा भागो (13 हाइकु)

जाड़ा भागो (13 हाइकु)

*******

1.
आँख मींचती
थर-थर काँपती 
ठंडी हवाएँ ।

2.
आलसी दिन 
है झटपट भागा 
जो जाड़ा दौड़ा ।

3.
सूरज सोता 
सर्द-सर्द मौसम
आग तापता ।

4.
ज़रा-सी धूप 
पिटारी में छुपा लो 
सर्दी के लिए ।

5.
स्वेटर-शाल
मन में इतराए 
जाड़ा जो आए ।

6.
हार ही गई 
ठिठुरती हड्डियाँ
असह्य शीत । 

7.
कुनमुनाता
गीत गुनगुनाता  
सूरज जागा ।
8.
मोती-सी बिछी 
सारी रात बिखरी
जाड़े की ओस । 

9.
सूर्य अकड़ू     
कम्बल औ रजाई 
देते दुहाई ।

10.
दिन काँपता 
रात है ठिठुरती
ऐ जाड़ा, भागो !

11.
रस्सी पे टँगा   
घना काला कोहरा 
दिन औ रात ।  

12.
सूर्य देवता 
अब जाग भी जाओ 
जाड़ा भगाओ ! 

13.
सूरज जागा 
धूप खिलखिलाई   
कोहरा भागा ।

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 26, 2012)

_____________________________

18 comments:

हरकीरत ' हीर' said...

सभी एक से बढ़कर एक .....:))

सहज साहित्य said...

भागते जाड़े का बहुत सजीव और नुतन भाव से परिपूर्ण चित्रण । भाषा की कमनीयता और विश्वसनीयता हाइकु को और अधिक मुखर कaर देती है । बहुत बधाई जेन्नी शबनम जी !

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

सूरज जागा
धूप खिलखिलाई
कोहरा भागा ।

बहुत बेहतरीन सुंदर हाइगा,,,

recent post: बसंती रंग छा गया

Anupama Tripathi said...

बहुत सुंदर हाइकु जेन्नी जी ...!!

शुभकामनायें ....!!

Gurpreet Singh said...

ब्लोग परिवार से घूमता-घूमता यहा पहुँचा, पूर्व एक बार आ चुका हूँ यहाँ।
अच्छी रचनाएँ है।
http://yuvaam.blogspot.com/2013_01_01_archive.html?m=0
।।।।।
https://plus.google.com/app/basic/112760643639266649999/about

Ramakant Singh said...

डॉ साहिबा आपने तो गजब ढा दिया खुबसूरत हाइकू

Rajesh Kumari said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगल वार 19/2/13 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका हार्दिक स्वागत है

Rajesh Kumari said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगल वार 19/2/13 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका हार्दिक स्वागत है

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सभी हाइकू बहुत सुन्दर हैं!

कुश्वंश said...

अच्छी हाय्गा , सार्थक

सतीश सक्सेना said...

गर्मी का क्या करेंगे :)
शुभकामनायें आपको !

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!

सरिता भाटिया said...

सूरज जागो
बीमारी हटा दो ना
जाड़ा भागो ना
गुज़ारिश : !!..'बचपन सुरक्षा' एवं 'नारी उत्थान' ..!!

Kalipad "Prasad" said...

बहुत खूब -सुन्दर प्रस्तुति
latestpost पिंजड़े की पंछी

Saras said...

बहुत सुन्दर हाइकू .......

कविता विकास said...

haiku saare achhe hain .kaisee hain aap?

कविता विकास said...

sundar haaiku

दिगम्बर नासवा said...

लाजवाब हाइकू ...
भावमय ...