मंगलवार, 1 जुलाई 2014

460. स्मृतियाँ शूल (10 हाइकु)

स्मृतियाँ शूल 
(10 हाइकु)

*******

1.
तय हुआ है -
मौसम बदलेगा
बर्फ जलेगा ।

2.
ले कर चली
चींटियों की क़तार
मीठा पहाड़ ।

3.
तमाम रात
धकेलती ही रही
यादों की गाड़ी ।

4.
आँखें मींचती
सूर्य के गले लगी
धरा जो जागी ।

5.
जाने क्या सोचे
यायावर-सा फिरे
बादल जोगी ।

6.
डरे होते हैं -
बेघर न हो जाएँ 
मेरे सपने  

7.
हार या जीत 
बेनाम-सी उम्मीद 
ज़मींदोज़ क्यों !

8.
ख़ारिज हुई 
जब भी भेजी अर्जी 
अल्लाह की मर्ज़ी !

9.
जश्न मनाता 
सूरज निकलता 
हो कोई ऋतु !

10.
जब उभरें  
लहुलूहान करें 
स्मृतियाँ शूल !

- जेन्नी शबनम (5. 6. 2014)

_________________________

8 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

हार या जीत
बेनाम-सी उम्मीद
ज़मींदोज़ क्यों !
bahut sundar jenni shabnam ji

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

लघु कलेवर ,बड़ी बात !

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 03-07-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1663 में दिया गया है
आभार

Digamber Naswa ने कहा…

डरे होते हैं -
बेघर न हो जाएँ
मेरे सपने ..
सपने बेघर नहीं होते .. आँखों में पलते हैं ये ... सभी हाइकू लाजवाब ...

आशीष भाई ने कहा…

बहुत ही सुंदर , जेन्नी जी धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

रश्मि शर्मा ने कहा…

सभी हाइकु बेहद पसंद आए....

हिमकर श्याम ने कहा…

बहुत सुंदर और भावपूर्ण हाइकु...बधाई

Onkar ने कहा…

अच्छे हाइकु