सोमवार, 20 अप्रैल 2020

657. 10 क्षणिकाएँ

1. 
सच  
***  

न कोई कल था  
न कोई आज है  
जो पाया, सब खोया  
जीवन का यही सच है।  
__________________

2. 
हुनर  
***  

छोटी-छोटी डिब्बियों में भर कर  
सीलबंद कर दिए मैंने अपने सारे हुनर  
यूँ इसके पहले भी बेशऊर कहलाती थी  
पर अब संतोष है  
मेरा सारा हुनर ओझल है सबसे  
अब उसका अपमान नहीं होता।  
__________________________

3. 
संवेदना  
***  

संवेदनाओं को  
ज़मीन नहीं मिलती  
आकाश चाहिए नहीं  
फिर क्या?  
यूँ ही घुट-घुटकर मर जाए !  
जल सूखता जाता है, नदी उतरती है  
संवेदनशून्यता यूँ ही तो बढ़ती है।  
_________________________  
4. 
काश !  
***  

ढ़ेरों काश इकठ्ठा हो गए हैं  
पर मन है कि ठहरता नहीं  
काश! यह किया होता, काश! वह कर पाते  
इकत्रित काश के साथ, भविष्य के और काश न जुड़े  
मन को समझना होगा  
मन को रुकना होगा या मरना होगा  
या फिर सन्यस्त होना होगा।  
___________________________

5. 
नींद  
***  

दिल को जलाया है  
दिल मेरा खाली है  
कोई नहीं जो सुकून दे  
मेरी तल्खियों को नींद दे  
आ जाओ ऐ फरिश्ते  
दिल में एक ख्वाब उगा दो  
रूह को जरा सा चैन दे दो  
आज बस सुला दो।  
___________________

6. 
करवट  
***  

यादों के बिस्तर पर करवट ही करवट है  
हर करवट में टूटते दिल की सलवट है  
सलवटें तो मिट जाएँगी  
करवटें नींद में समा जाएगी  
पर यादें?  
कितने फूल कितने शूल  
हँसता दिल जख्मी सीना  
क्या ये यादों से दूर जा पाएँगे?  
______________________

7. 
शर्त  
***  

बेशर्त ज़िन्दगी चलती नहीं  
शर्तें मन को फबती नहीं  
इसी उधेड़बुन में ठहरी रही  
करूँ तो अब मैं क्या करूँ  
शर्तें मानूँ या ज़िन्दगी मिटा लूँ  
अपनी बचाऊँ कि साँसें सँभालूँ।  
_______________________

8. 
भूल जाते हैं  
***  

चलो आज सारी रात जागते हैं  
आधा आसमान तुम्हारा आधा मेरा  
तुम तारे गिनो  
हम आधे आसमान में  
चाँद को सजाते हैं  
दिन भी निकलेगा भूल जाते हैं।  
________________________

9. 
मुबारक  
***  

अँधेरों का सैलाब बढ़ता जा रहा है  
रोशनी का एक तिनका भी नहीं, सब डूब रहा है  
हाथ थामने को कुछ नहीं सूझ रहा है  
सूरज ने अँधेरों को थामने से मना कर दिया है  
वह रोशनी भेजने को तैयार नहीं है  
मेरे लिए कुछ भी न इस पार है न उस पार है  
उसने कहा - तुम्हें अँधेरे पसंद थे न  
लो, तुम्हें अँधेरे मुबारक।  
______________________________

10. 
मेरा घर  
*******  

रात के सीने में  
हजारों चमकते कोने हैं  
पर वहाँ एक महफूज़ कोना भी है  
जहाँ सबका प्रवेश वर्जित है  
वहाँ अँधेरा ही अँधेरा है  
बस वहीं, घर मेरा है।  
_______________________

- जेन्नी शबनम (20. 4. 2020)  
___________________________________________   
 

2 टिप्‍पणियां:

Meena Bhardwaj ने कहा…

सभी क्षणिकाएं अत्यंत सुन्दर... उम्दा सृजन हेतु बहुत बहुत बधाई ।

Onkar ने कहा…

बहुत सुन्दर