मंगलवार, 17 नवंबर 2020

698. वसीयत

वसीयत   

******* 

जीस्त के ज़ख्मों की कहानी तुम्हें सुनाती हूँ   
मेरी उदासियों की यही है वसीयत   
तुम्हारे सिवा कौन इस को सँभाले   
मेरी ये वसीयत अब तुम्हारे हवाले   
हर लफ्ज़ जो मैंने कहे हर्फ़-हर्फ़ याद रखना   
इन लफ़्ज़ों को जिंदा मेरे बाद रखना   
किसी से कुछ न कभी तुम बताना   
मेरी ये वसीयत मगर मत भूलाना   
तुम्हारी मोहब्बत ही है मेरी दौलत   
मेरे लफ्ज़ ज़िंदा हैं इसकी बदौलत!   

उस दौलत ने दिल को धड़कना सिखाया   
हर साँस पे था जो कर्ज़ा चुकाया   
मेरे जख्मों की अब मुझको परवाह नहीं है   
लबों पे मेरे अब कोई आह नहीं है   
अगर्चे अभी भी कोई सुख नहीं है   
ग़म तुमने समझा तो अब दुःख नहीं है!   

गैरों की भीड़ में मुझको कई अपने मिले थे   
मगर जैसे सारे ही सपने मिले थे   
मुझसे किसी ने कहाँ प्यार किया था   
वार अपनों ने खंजर से सौ बार किया था   
मन ज़ख़्मी हुआ, ताउम्र आँखों से रक्त रिसता रहा   
किसे मैं बताती कि दोष इसमें किसका रहा   
किस्मत ने जो दर्द दिया तोहफ़ा मान सब सहेजा   
मैंने कदमों को टोका किस्मत को दिया न धोखा   
जीवन में नाकामियों की हज़ारों दास्तान है   
हर पग के साथ बढ़ता छल का अंबार है   
मेरी हर साँस में मेरी एक हार है!   

जीकर तो किसी के काम न आ सकी   
मेरे जीवन की किसी को कभी भी न दरकार थी   
मेरे शरीर का हर एक अंग मैंने दुनिया को दान किया   
पर कभी ये न सोचा मैंने कोई अहसान किया   
मैं जब न रहूँ कइयों के बदन को नया जीवन दिलाना   
बिजली की भट्टी में इसे तुम जलाना   
बिजली की भट्टी में मेरा बदन राख बन जाएगा   
आधे राख को गंगा में वहाँ लेकर जाना वहीं पर बहाना   
जहाँ मेरे अपनों का जिस्म राख में था बदला   
आधे को मिट्टी में गाड़ कर रात की रानी का पौधा लगाना   
मुझे रात में कोई खुशबू बनाना   
जीवन बेनूर था मर के बहक लूँ   
वसीयत में ये एक ख़्वाहिश भी रख लूँ   
रात की रानी बन खिलूँगी और रात में बरसूँगी   
न साँस मैं माँगूँगी न प्यार को तरसूँगी   
भोर में ओस की बूंदों से लिपटी मैं दमकूँगी   
दिन में बुझी भी तो रात में चमकूँगी!   

क़ज़ा की बाहों में जब मेरी सुकून भरी मुस्कुराहट दिखे   
समझना मेरे जीस्त की कुछ हसीन कहानी उसने मुझे सुनाई है   
शब के लिए रात की रानी खिलाई है   
जीवन में बस एक प्रेम कमाया वह भी तुम्हारे सहारे   
इतना करो कि ये प्रेम कभी न हारे   
तुम्हें कसम है, एक वादा तुम करना   
मेरी ये वसीयत तुम ज़रूर पूरी करना   
तुम्हारे सिवा कौन इसको सँभाले   
मेरी ये वसीयत अब तुम्हारे हवाले!  

- जेन्नी शबनम (16. 11. 2020) 
_________________________________________

12 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (18-11-2020) को   "धीरज से लो काम"   (चर्चा अंक- 3889)   पर भी होगी। 
-- 
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
-- 
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
सादर...! 
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
--

Pammi singh'tripti' ने कहा…

आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 18 नवंबर 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

कमाल है!

Onkar ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

रंजू भाटिया ने कहा…

बहुत सुंदर ,भावपूर्ण अभिव्यक्ति

सधु चन्द्र ने कहा…

वाह!
सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति

MANOJ KAYAL ने कहा…

बहुत सुन्दर l

शिवम् कुमार पाण्डेय ने कहा…

बहुत बढ़िया।

Shantanu Sanyal शांतनु सान्याल ने कहा…

मुग्ध करती सुन्दर रचना।

Sudha Devrani ने कहा…

जीवन में बस एक प्रेम कमाया वह भी तुम्हारे सहारे
इतना करो कि ये प्रेम कभी न हारे
तुम्हें कसम है, एक वादा तुम करना
मेरी ये वसीयत तुम ज़रूर पूरी करना
तुम्हारे सिवा कौन इसको सँभाले
मेरी ये वसीयत अब तुम्हारे हवाले!
वाह!!!
कमाल का सृजन...
लाजवाब बस लाजवाब।🙏🙏🙏🙏।

सधु चन्द्र ने कहा…

जीवन में बस एक प्रेम कमाया वह भी तुम्हारे सहारे
इतना करो कि ये प्रेम कभी न हारे
तुम्हें कसम है, एक वादा तुम करना
मेरी ये वसीयत तुम ज़रूर पूरी करना
तुम्हारे सिवा कौन इसको सँभाले
मेरी ये वसीयत अब तुम्हारे हवाले!

वाह!!!