Tuesday, January 20, 2009

6. अपने लिए एक जगह तलाश रही... / Apne Liye Ek Jagah Talaash Rahi...

अपने लिए एक जगह तलाश रही...

*******

अपने लिए एक जगह तलाश रही
कभी किसी के घर में
कभी किसी के मन में,
युगों से बेआसरा हूँ
पनाह मिलती नहीं कहीं
बेवतन हूँ,
सिसकी पहुँचती नहीं उनतक
जो हमवतन हैं 

कहाँ दफ़न करूँ ख़ुद को
अपने ही बदन में,
ध्वस्त मज़ार ख़ुद हूँ 
दंभ क्या करूँ जीवन का
जब बसर भर करनी हो ज़िन्दगी,
फ़क्र क्या करूँ
जब यूँ बेमानी हो ज़िन्दगी,
जगह क्या तलाशूँ अब
जब खो ही जाने को है ज़िन्दगी 

- जेन्नी शबनम (फ़रवरी 1992)

__________________________________

Apne Liye Ek Jagah Talaash Rahi...

*******

Apne liye ek jagah talaash rahi
Kabhi kisi ke ghar mein
kabhi kisi ke mann mein,
Yugon se beaasra hun
Panaah miltee nahi kahi
Bewatan hun,
Siski pahunchti nahin untak
Jo humwatan hain.

Kahan dafan karun khud ko
Apne hi badan mein,
Dhwast mazaar khud hoon.
Dambh kya karoon jiwan ka
Jab basar bhar karni ho zindgi,
Fakra kya karoon
Jab Yun bemaanee ho zindgi,
jagah kya talaashoon ab
Jab kho hee jaane ko hai zindgi.

- Jenny Shabnam (Feburary 1992)

*****************************************

No comments: