Tuesday, January 20, 2009

7. भीड़... / Bheed...

भीड़...

*******

मुझमे इतनी भीड़ इकट्ठी हो गई है कि
कहाँ तलाशूँ ख़ुद को ?
कहाँ छुपाऊँ ख़ुद को ?

हर वक्त गूँजता भीड़ का कोलाहल है
कुछ सुन नहीं पाती
कुछ देख नहीं पाती 

भीड़ का हुजूम जैसे बढ़ता जा रहा है
दिल-दिमाग और आत्मा
जैसे सब फट जाने को है 

सोते-जागते उठते-बैठते
हर जगह हर वक्त भीड़ 
क्या करूँ, कैसे रोकूँ ?
मुझको मुझसे ही छीन
मुझमें ही कैद कर गया
ये अखंडित भीड़ 

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 27, 2008)
____________________________________

Bheed...

*******

Mujhme itni bheed ikatthi ho gai hai ki
kahaan talaashoon khud ko ?
kahaan chhupaoon khud ko ?

Her waqt gunjta bheed ka kolaahal hai
kuchh sun nahi paati
kuchh dekh nahi paati.

Bheed ka hujum jaise badhta ja raha hai
dil-dimag aur aatma
jaise sab phat jane ko hai.

sote-jaagte uthte-baithte
her jagah her waqt bheed.
Kya karoon, kaise rokoon ?
Mujhko mujhse hi chheen
mujhme hi kaid kar gaya
ye akhandit Bheed.

- Jenny Shabnam (December 27, 2008)

**********************************************

No comments: