Wednesday, November 25, 2009

102. मुझे जीना नहीं आता / mujhe jeena nahin aataa

मुझे जीना नहीं आता

******* 
   
सच, जीना नहीं आता, मुझे बसना नहीं आता    
दुनिया के रिवाजों पे, मुझे चलना नहीं आता !

हँस नहीं पाती, ज़माने के दर्द पर अब भी          
सच है, बेरहमी से, मुझे हँसना नहीं आता !          

शोहरत की चाह, न ऐसी ख़्वाहिश ही है कोई
ज़िन्दगी करना बसर, मुझे इतना नहीं आता !  

छलक जाते हैं आँसू, किसी के बिछुड़ने पर
सच है, रोना आता, मुझे मरना नहीं आता !

यूँ हज़ारों रास्ते हैं, मंज़िल तक पहुँचने के
यक़ीनन कहीं भी, मुझे बढ़ना नहीं आता ।  

अपने दे जाए दगा, तो भी सह लूँ मगर
बेवफ़ाई दोस्तों से, मुझे करना नहीं आता 

क्या-क्या ज़ब्त करूँ अब, अपने सीने में    
सच है, हर ग़म, मुझे सहना नहीं आता ।     

क्यों नहीं देखती आईना, सब पूछते यहाँ
सच है, ख़ुद से इश्क, मुझे करना नहीं आता ।     

एक तस्वीर माँगी थी, तक़दीर नहीं 'शब'
या ख़ुदा ! तुमसे, मुझे कहना नहीं आता ! 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 25, 2009)

_____________________________________

mujhe jeena nahin aataa

*******

sach, jeena nahin aataa, mujhe basnaa nahin aataa
duniya ke riwaazon pe, mujhe chalna nahin aataa.

hans nahin paati, zamaane ke dard par ab bhi
sach hai, berahmi se, mujhe hansnaa nahin aataa.

shohrat ki chaah, na aisi khwaahish hi hai koi
zindgi karnaa basar, mujhe itnaa nahin aataa.

chhalak jaate hain aansoo, kisi ke bichhudne par
sach hai, ronaa aataa, mujhe marnaa nahin aataa.

yun hazaaron raaste hain, manzil tak pahunchne ke
yakinan kaheen bhi, mujhe badhnaa nahin aataa.

apne de jaaye dagaa, to bhi sah loonn magar
bewafaai doston se, mujhe karna nahin aataa.

kya-kya zabt karoon ab, apne seene mein
sach hai, har gham, mujhe sahnaa nahin aataa.

kyun nahin dekhti aainaa, sab puchhte yahaan
sach hai, khud se ishq, mujhe karnaa nahin aataa.

ek tasweer maangi thee, takdir nahin 'shab'
yaa khudaa ! tumse, mujhe kahnaa nahin aataa.

- Jenny Shabnam (November 25, 2009)

________________________________________________

2 comments:

मनोज कुमार said...

पढ़कर राहत मिली। आपकी साफ़गोई और निष्पक्ष तेवर देखते ही बनता है।

रश्मि प्रभा... said...

क्या क्या ज़ब्त करूँ अब, अपने सीने में,
सच है, हर ग़म मुझे सहना नहीं आता !
waah