Monday, November 30, 2009

103. रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल... / rumaani waadiyon mein safed baadal...

रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल...

*******

मन की कलियाँ कुछ कच्ची हुई
सपनों की गलियाँ कुछ लम्बी हुई,
एक फ़रिश्ता मुझे बादल तक लाया
पुष्पक-विमान से आसमान दिखाया,
जैसे देव-लोक का कोई देव
मेरे सपनों का वो मीत 

हाथ बढ़ाया थामने को
साथ तफ़रीह करने को,
जाने ये कैसा संकोच
बावरा मन हुआ मदहोश,
होठों पर तिरी मुस्कान
काँप उठे सभी जज़्बात 

मरमरी सफ़ेद नर्म मुलायम
चहुँ ओर फैले शबनमी एहसास,
परी-लोक सा अति मनभावन
स्वर्ग-लोक सा सुन्दर पावन,
क्या सच में है ये जन्नत
या बस मेरा एक ख़्वाब 

दिखा वहाँ न कोई फ़रिश्ता
न मदिरा की बहती धारा,
न दूध की नदी विहंगम
न अप्सराओं का नृत्य मोहक,
दिखा सफ़ेद बादलों का दृश्य मनोरम
और बस हम दोनों का प्रेम-आलिंगन 

मेरे सपनों का देव-लोक
आसमान का सफ़ेद बादल,
और हमारा सफ़र सुहाना
जैसे परी-लोक की एक कथा,
अधसोई रात का एक स्वपन
रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 27, 2009)

_________________________________________

rumaani waadiyon mein safed baadal...

*******

mann kee kaliyan kuchh kachchi hui
sapnon kee galiyan kuchh lambi hui,
ek farishtaa mujhe baadal tak laayaa
pushpak-vimaan se aasmaan dikhaya,
jaise dev-lok ka koi dev
mere sapnon ka wo meet.

haath badhaaya thaamne ko
saath tafreeh karne ko,
jaane ye kaisa sankoch
baawaraa mann hua madhosh,
hothon par tiree muskaan
kaanp uthe sabhi jazbaat.

marmaree safed narm mulaayam
chahun oar faile shabnami ehsaas,
paree-lok sa ati manbhaawan
swarg-lok sa sundar paawan,
kya sach mein hai ye jannat
ya bas mera ek khwaab.

dikha wahaan na koi farishta,
na madira kee bahti dhaaraa,
na doodh kee nadee vihangam,
na apsaraon ka nritya mohak,
dikha safed baadlon ka drishya manoram,
aur bas hum dono ka prem-aalingan.

mere sapnon ka dev-lok,
aasmaan ka safed baadal,
aur hamara safar suhaana,
jaise paree-lok kee ek kathaa,
adhsoi raat ka ek swapn,
roomaani waadiyon mein safed baadal.

- jenny shabnam (27. 11. 2009)

________________________________________

2 comments:

मनोज कुमार said...

असाधारण शक्ति का पद्य, बुनावट की सरलता और रेखाचित्रनुमा वक्तव्य सयास बांध लेते हैं, कुतूहल पैदा करते हैं।

रश्मि प्रभा... said...

रूमानी बादलों का कारवां और उसमें उड़ता मन........हवा की तरह छू गया