Sunday, November 8, 2009

94. तुम कहाँ गए / tum kahaan gaye

तुम कहाँ गए

*******

एक साँझ घिर आयी है मन पर
मेरी सुबह लेकर तुम कहाँ गए !

एक फूल खिला एक दीप जला
सब बुझा कर तुम कहाँ गए !

बीता रात का पहर भोर न हुई
सूरज छुपा कर तुम कहाँ गए !

चुभती है अब अपनी ही परछाईं
रौशनी दिखा कर तुम कहाँ गए !

तुम्हारी ज़िद न छूटेगा दामन
तन्हा छोड़ कर तुम कहाँ गए !

वक़्त-ए-रुखसत आकर मिल लो
सफ़र अधूरा कर तुम कहाँ गए !

'शब' की बस एक रात अपनी
वो रात लेकर तुम कहाँ गए !

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 7, 2009)

______________________________

tum kahaan gaye

*******

ek saanjh ghir aayee hai mann par
meri subah lekar tum kahaan gaye !

ek phool khilaa ek deep jalaa
sab bujhaa kar tum kahaan gaye !

beetaa raat ka pahar bhor na huee
sooraj chhupaa kar tum kahaan gaye !

chubhtee hai ab apnee hin parchhayeen
raushanee dikhaa kar tum kahaan gaye !

tumhaari zidd na chhutegaa daaman
tanhaa chhod kar tum kahaan gaye !

waqt-ae-rukhsat aakar mil lo
safar adhuraa kar tum kahaan gaye !

'shab' kee bas ek raat apnee
wo raat lekar tum kahaan gaye !

- jenny shabnam (november 7, 2009)

_____________________________________

2 comments:

रश्मि प्रभा... said...

घिरी शाम दिल के बीच
सूर्य अस्त हुआ जाता है,
पर उम्मीद के दिए भी हैं जलते
चाँद को हर हाल में आना है

Priya said...

वक़्त-ए-रुखसत आकर मिल लो
मेरा अधूरा सफ़र तुम कहाँ गये !

best one