Sunday, January 10, 2010

112. सूरज को पा लूँ.../ sooraj ko paa loon...

सूरज को पा लूँ...

*******

चाँद को पाने की ख़्वाहिश
तो फिर भी है मुमकिन,
सूरज को चाहे कि पा लूँ
तो अंजाम जाने क्या हो । 
दूर जो है सूरज तो
जीवित हैं हम,
पास से जो हो
छूने की आस,
भस्म हो जाएँगे
पर मिलेगा न सूरज । 
तुम्हारी दूरी में है
हमारा जीवन,
फिर भी तुम्हें पाने को
क्यों तड़पता है मन ?
अपनी ताप
मुझमें बसा दो,
चुपके से अपनी किरणें
मुझतक पहुँचा दो,
अँधियारा फैले तो
पूछेगा जग तो
कहना
बादलों ने छुपा दिया था तुमको 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 1, 2010)

_____________________________________

sooraj ko paa loon...

*******

chaand ko paane ki khwaahish
to fir bhi hai mumkin,
sooraj ko chaahe ki paa lun
to anjaam jaane kya ho.
door jo hai sooraj to
jiwit hain hum,
paas se jo ho
chhune ki aas,
bhasm ho jayenge
par milega na sooraj.
tumhaari doori mein hai
hamara jiwan,
phir bhi tumhe paane ko
kyon tadaptaa hai mann ?
apni taap
mujhmein basaa do,
chupke se apni kirnein
mujhtak pahunchaa do,
andhiyaaraa faile to
puchhega jag to
kahna
baadlon ne chhupa diya thaa tumko.

- Jenny Shabnam (January 1, 2010)

________________________________________

2 comments:

हृदय पुष्प said...

तभी तो कहतें हैं: "जहाँ न पहुंचे रवि, वहां पहुंचे कवि"
जेन्नी जी कितनी बार कहूँ सुंदर-सुंदर . . .अति सुंदर रचना. और ये पंक्तियाँ तो अति विशेष लगीं:
तुम्हारी दूरी में है
हमारा जीवन,
फिर भी तुम्हे पाने को
क्यूँ तड़पता है मन?
अपनी ताप को
मुझमें बसा दो,
चुपके से अपनी किरणें
मुझतक पहुंचा दो!

jenny shabnam said...

kaushik ji,
bahut sahi kaha, kavi ki kalpana kaha tak pahuchegi ye anumaan sirf kavi hin laga sakta, prakriti nahin. aap jaise rachnakaar ki prashansa se man utsaahit hota kalpana ki duniya mein udaan bharne keliye. apna aashish mujhpar banaye rakhen yahi kaamna hai. bahut dhanyawaad.