Sunday, January 10, 2010

113. याद तुम्हें ज़रा नहीं / yaad tumhein zaraa nahin

याद तुम्हें ज़रा नहीं

*******

एक शाम हो सिर्फ मेरी, चाह है कोई ख़ता नहीं
इश्क की कहानी तुमने कही, याद तुम्हें ज़रा नहीं । 

अमावास का दीप सही, पर बताए कैसे दिशा मेरी
दूर है एक चाँद खिला, पर ध्रुव तारा-सा जला नहीं ।    

खो आई कुछ अपना, जब टूटा था तुम्हारा वादा
विश्वास की डोर जो टूटी, फिर कुछ अब बचा नहीं । 

महज़ एक रात का नाता, उस सफ़र का वादा यही
हर तकाज़ा था तुम्हारा, मैंने किया कोई दगा नहीं । 

तुम्हारा प्यार ज़्यादा, या मेरी तकदीर कम पड़ी
रब की मर्ज़ी रब जाने, फैसला मेरा कभी रहा नहीं । 

दर्द देकर कहते हो, आ जाओ सनम है जीवन सूना
सब अख्तियार तुम ले बैठे, 'शब' ने कुछ कहा नहीं । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 10, 2010)

___________________________________________

yaad tumhein zaraa nahin

*******

ek shaam ho sirf meri, chaah hai koi khataa nahin
ishq ki kahani tumne kahi, yaad tumhe zaraa nahin.

amaawas ka deep sahi, par bataye kaise dishaa meri
door ek chaand khila, par dhruv taaraa-sa jala nahin.

kho aayee kuchh apna, jab toota thaa tumhara wada
wishwaas ki dor jo tooti, fir kuchh ab bachaa nahin.

mahaz ek raat ka nata, us safar ka wada yahi
har takaza thaa tumhaara, maine kiya koi dagaa nahin.

tumhara pyar jyaada, ya meri takdeer kam padee
rab ki marzi rab jaane, faisla mera kabhi rahaa nahin.

dard dekar kahte ho, aa jao sanam hai jiwan soona
sab akhtiyaar tum le baithey, 'shab' ne kuchh kahaa nahin.

- Jenny Shabnam (January 10, 2010)

__________________________________________________

6 comments:

रावेंद्रकुमार रवि said...

"एक याद ही ऐसी है, जो आती नहीं उनकी!
आए भी वो कैसे? उन्हें हम भूलते कब हैं?"

--
ओंठों पर मधु-मुस्कान खिलाती, रंग-रँगीली शुभकामनाएँ!
नए वर्ष की नई सुबह में, महके हृदय तुम्हारा!
संयुक्ताक्षर "श्रृ" सही है या "शृ", उर्दू कौन सी भाषा का शब्द है?
संपादक : "सरस पायस"

हृदय पुष्प said...

एक शाम हो सिर्फ मेरी, चाह है कोई ख़ता नहीं,
इश्क की कहानी तुमने कही, याद तुम्हें ज़रा नहीं!
दर्दे दास्ताँ अच्छी है.

jenny shabnam said...

Ravendra ji,
bahut pyaari baat kahi hai, jinhe hum bhoolte nahin to yaad kaise kare.
yaha aane keliye bahut dhanyawaad.

jenny shabnam said...

kaushik ji,
rachna ki sarahna keliye bahut aabhar.

PRADEEP said...

WOW..WOW.

kishor kumar khorendra said...

दर्द देकर कहते हो, आ जाओ सनम है जीवन सूना,
सब अख्तियार तुम ले बैठे, ''शब'' ने कुछ कहा नहीं !

sundar