Wednesday, September 15, 2010

174. मन भी झुलस जाता है... / mann bhi jhulas jata hai...

मन भी झुलस जाता है...

*******

मेरे इंतज़ार की
इंतेहा देखते हो,
या कि अपनी बेरुखी से
ख़ुद खौफ़ खाते हो !
नहीं मालुम क्यों हुआ
पर कुछ तो हुआ है
बिना चले ही कदम
थम कैसे गए ?
क्यों न दी आवाज़ तुमने ?
हर बार लौटने की
क्या मेरी ही बारी है ?

बार-बार वापसी
नहीं है मुमकिन,
जब टूट जाता है बंधन
फिर रूठ जाता है मन !
पर इतना अब मान लो
इंतज़ार हो कि वापसी
जलते सिर्फ पाँव ही नहीं
मन भी झुलस जाता है !

- जेन्नी शबनम (13. 9. 2010)

_______________________________

mann bhi jhulas jata hai...

*******

mere intzaar ki
intahaan dekhte ho,
ya ki apni berukhi se
khud khouf khaate ho !
nahin maalum kyon hua
par kuchh to hua hai
bina chale hin kadam
tham kaise gaye ?
kyon na dee aawaaz tumne ?
har baar loutne ki
kya meri hin baari hai ?

baar-baar wapasi
nahin hai mumkin,
jab toot jata hai bandhan
phir ruth jata hai mann !
par itna ab maan lo
intzaar ho ki vaapasi
jalte sirf paanv hin nahin
mann bhi jhulas jata hai !

- jenny shabnam (13. 9. 2010)

_________________________________

7 comments:

asha said...

didi kamal likhati hai aap...wah.

Udan Tashtari said...

बहुत बेहतरीन अभिव्यक्ति!! वाह!

Shekhar Suman said...

bahut khub..
waah....

Mukesh Kumar Sinha said...

"mann bhi jhulas jata hai.......:)"

kya baat kahi aapne...:)

रश्मि प्रभा... said...

kaafi kuch hai is abhivyakti mein

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

पर इतना अब मान लो
इंतज़ार हो कि वापसी
जलते सिर्फ पाँव हीं नहीं
मन भी झुलस जाता है !

बहुत वेदना है इन पंक्तियों में ..

Dr.R.Ramkumar said...

बार बार वापसी
नहीं है मुमकिन,
जब टूट जाता है बंधन
फिर रूठ जाता है मन !
पर इतना अब मान लो
इंतज़ार हो कि वापसी
जलते सिर्फ पाँव हीं नहीं
मन भी झुलस जाता है !

सत्य परत दर परत ऐसे ही खुलता है।
सुन्दर अभिव्यक्ति।