बुधवार, 24 जुलाई 2013

413. धूप (15 हाइकु)

धूप (15 हाइकु) 

*******

1.
सूर्य जो जला   
किसके आगे रोए  
खुद ही आग ! 

2.
घूमता रहा 
सारा दिन सूरज 
शाम को थका ! 

3.
भुट्टे-सी पकी
सूरज की आग पर   
फसलें सभी !

4.
जा भाग जा तू !
जला देगी तुझको  
शहर की लू !

5.
झुलसा तन 
झुलस गई धरा 
जो सूर्य जला !

6.
जल-प्रपात 
सूर्य की भेंट चढ़े 
सूर्य शिकारी !

७.
धूप खींचता 
आसमान से दौड़ा,
सूरज घोड़ा !

8.
ठण्डे हो जाओ 
हाहाकार है मचा 
सूर्य देवता !

9.
असह्य ताप 
धरती कर जोड़े 
'मेघ बरसो !'

10.
माना सबने - 
सर्वशक्तिमान हो 
शोलों को रोको !

11.
खुद भी जला 
धरा को भी जलाया 
प्रचण्ड सूर्य !

12.
हे सूर्य देव !
कर दो हमें माफ़  
गुस्सा न करो !

13.
आग उगली  
बादल जल गया 
सूरज दैत्य !

14.
झुलस गया 
अपने ही ताप से 
सूर्य बेचारा !

15.
धूप के ओले  
टप-टप टपके 
सूरज फेंके !

- जेन्नी शबनम (1. 6. 2013)

__________________________

16 टिप्‍पणियां:

Sriram Roy ने कहा…

सुन्दर ही नही अति सुन्दर ...
www.sriramroy.blogspot.in

Ranjana Verma ने कहा…

सूरज के प्रचंड गर्मी का ब्यौरा.....
बहुत खुबसूरत हाइकू !!

Ranjana Verma ने कहा…

सूरज के प्रचंड गर्मी का ब्यौरा.....
बहुत खुबसूरत हाइकू !!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

सूरज की दादागीरी
चलती नहीं जब चौमासे में ,
ओढ़ता धुँधलाई कथरी !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूब .... सूर्य पर बढ़िया हाइकु ।

नीरद पीछे
छिप गया सूरज
घटा बरसी ।

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर..

shorya Malik ने कहा…

बहुत सुंदर हाइकू

PRAN SHARMA ने कहा…

SURYA PAR LIKHEE CHHOTEE - CHHOTEE
BEMISAAL KAVITAAYEN HAIN .

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत ही प्रभावी हैं सभी हाइकू ..
अपनी पात को स्पष्ट कहा है आपने ...

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

bahut sundar........

राकेश कौशिक ने कहा…

वाह - बहुत खूब
"धूप के ओले
टप-टप टपके
सूरज फेंके!"

mahendra verma ने कहा…

सूरज के दहकते चित्र !
इन त्रिपदियों की आंच भाती है।

Dr. Sarika Mukesh ने कहा…

बहुत ही अच्छे. सार्थक हाइकु...धूप का चित्र खींचते हुए....हार्दिक बधाई!

सदा ने कहा…

धूप खींचता
आसमान से दौड़ा,
सूरज घोड़ा !
क्‍या बात है .... एक से बढ़कर एक हाइकू ...

Shalini Rastogi ने कहा…

बहुत सुन्दर हाइकू
आपकी इस उत्कृष्ट प्रस्तुति को कल रविवार, दिनांक 28/07/13 को ब्लॉग प्रसारण http://blogprasaran.blogspot.in पर प्रसारित किया जाएगा ... साभार सूचनार्थ

कवि किशोर कुमार खोरेन्द्र ने कहा…

sabhi haayku achchhe lage