शुक्रवार, 2 जनवरी 2015

480. नूतन साल (नव वर्ष पर 7 हाइकु)

नूतन साल (नव वर्ष पर 7 हाइकु)

*******

1. 
वक़्त सरका  
लम्हा भर को रुका   
यादें दे गया ! 

2. 
फूल खिलेंगे  
तिथियों के बाग़ में   
खुशबू देंगे ! 

3. 
फुर्र से उड़ा 
पुराना साल, आया   
नूतन साल ! 

4. 
एक भी लम्हा 
हाथ में न ठहरा   
बीते साल का ! 

5. 
मुझ-सा तू भी  
हो जाएगा अतीत,   
ओ नया साल ! 

6. 
साल यूँ बीता 
मानो अपना कोई   
हमसे रूठा ! 

7. 
हँसो या रोओ  
बीता पूरा बरस  
नए को देखो ! 

- जेन्नी शबनम (1. 1. 2015)

__________________________

7 टिप्‍पणियां:

Kavita Rawat ने कहा…

हँसो या रोओ
बीता पूरा बरस
नए को देखो
....बिलकुल सही ..बीती ताहि बिसार दे आगे के सुधि ले ...
आपको भी नए साल 2015 की बहुत बहुत हार्दिक मंगलकामनाएं!

yashoda agrawal ने कहा…

नूतन वर्षाभिनन्दन.....आपकी लिखी रचना शनिवार 03 जनवरी 2015 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (03-01-2015) को "नया साल कुछ नये सवाल" (चर्चा-1847) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
नव वर्ष-2015 आपके जीवन में
ढेर सारी खुशियों के लेकर आये
इसी कामना के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

संजय भास्‍कर ने कहा…

खट्टी-मीठी यादों से भरे साल के गुजरने पर दुख तो होता है पर नया साल कई उमंग और उत्साह के साथ दस्तक देगा ऐसी उम्मीद है। नवर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

Onkar ने कहा…

सार्थक रचना

तिलक राज कपूर ने कहा…

बेहद खूबसूरत हाइकू।

रश्मि शर्मा ने कहा…

बड़े अच्‍छे हाइकू हैं...नववर्ष की बधाई और शुभकामनाएं..