शुक्रवार, 1 जनवरी 2021

706. नूतन वर्ष (10 हाइकु)

नूतन वर्ष

*******

1. 
दसों दिशाएँ   
करती हैं स्वागत   
नूतन वर्ष।   

2. 
देकर दुःख   
बीता पुराना साल   
बेवफ़ा जैसे।   

3. 
आई द्वार पे   
उम्मीद की किरणें   
नया बरस।   

4. 
विस्मृत करें   
बीते साल की चालें   
मन के छाले।   

5. 
डर से भागा,   
आया जो नव वर्ष   
पुराना वर्ष।   

6. 
बीता बरस   
चला गया निर्मोही   
यादें देकर।   

7. 
याद आएगा   
सुख-दु:ख का साथी   
साल पुराना।   

8. 
वर्ष ज्यों बीता   
वक्त के पिंजड़े से   
फुर्र से उड़ा।   

9.
बड़ा सताया   
किसी को न बिसरा   
गुज़रा साल।   

10. 
आशा का दीप   
लेकर आया साल   
मन सजाओ। 

- जेन्नी शबनम (1. 1. 2021)

________________________ 

9 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नव वर्ष मंगलमय हो। सुन्दर सृजन।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (03-01-2021) को   "हो सबका कल्याण"   (चर्चा अंक-3935)   पर भी होगी। 
-- 
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
--
नववर्ष-2021 की मंगल कामनाओं के साथ-   
हार्दिक शुभकामनाएँ।  
--
सादर...! 
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
--

kuldeep thakur ने कहा…


जय मां हाटेशवरी.......

आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
आप की इस रचना का लिंक भी......
03/01/2021 रविवार को......
पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
शामिल किया गया है.....
आप भी इस हलचल में. .....
सादर आमंत्रित है......


अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
https://www.halchalwith5links.blogspot.com
धन्यवाद

दिगम्बर नासवा ने कहा…

पुराने नए साल के बीच झूलते हाइकू ...
बहुत लाजवाब ...

Amrita Tanmay ने कहा…

एक से बढ़कर एक हाइकु । अति सुन्दर । हार्दिक शुभकामनाएँ

Jyoti Dehliwal ने कहा…

बहुत सुंदर हायकु।

मन की वीणा ने कहा…

सुंदर भावपूर्ण सृजन।
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

Sudha Devrani ने कहा…

बहुत ही सुन्दर... लाजवाब सृजन।
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

Shantanu Sanyal शांतनु सान्याल ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना।