Tuesday, July 13, 2010

154. यही है मन.../ yahi hai mann...

यही है मन...

*******

अचानक उल्लास
अचानक संतप्त
पहेली है मन !

रहस्यमय संसार
उत्सुकता बहुत
भूलभूलैया है मन !

अधूरी चाह
अतृप्त आकांक्षा
भटकता है मन !

स्व संवाद
नहीं विवाद
उलझता है मन !

खंडित विश्वास
अखंडित आस
यही है मन !

- जेन्नी शबनम (13. 7. 2010)

__________________________

yahi hai mann...

*******

achaanak ullaas
achaanak santapt
paheli hai mann !

rahasyamay sansaar
utsukta bahut
bhulbhulaiya hai mann !

adhuri chaah
atript akaanksha
bhatakta hai mann !

swa samvaad
nahin vivaad
ulajhta hai mann !

khandit vishvaas
akhandit aas
yahi hai mann !

- jenny shabnam (13. 7. 2010)

_________________________________

16 comments:

रश्मि प्रभा... said...

खंडित विश्वास
अखंडित आस...
यही है मन !
....
खंडित आस.... अदम्य ताकत देता है मन

kshama said...

Sach man aisahi hota hai!

Sunil Kumar said...

अधूरी चाह
अतृप्त आकांक्षा...
भटकता है मन ! सुंदर अभिव्यक्ति ,शुभकामनायें

DEEPAK BABA said...

खंडित विश्वास
अखंडित आस...
यही है मन !

कम शब्दों में अधिक अहसास

M VERMA said...

अधूरी चाह
अतृप्त आकांक्षा...
भटकता है मन !
जी हाँ मन की फितरत तो यही है
सुन्दर रचना मनमोहक

रचना दीक्षित said...

खंडित विश्वास
अखंडित आस...
यही है मन !

वाह !!!!क्या कितना खुबसूरत है ये मन कभी अनजान कभी जाना पहचाना है ये मन

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

खंडित विश्वास
अखंडित आस...
यही है मन !

उम्मीदें ही इंसान को संघर्ष करने के लिए प्रेरित करती हैं

राजकुमार सोनी said...

आपकी रचना को पढ़कर लगता है
किसी ने सही कहा है कि
उम्मीद पर दुनिया कायम है
आपको एक बेहतर रचना के लिए मेरी बधाई.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

बेहतरीन रचना !

Udan Tashtari said...

खंडित विश्वास
अखंडित आस...
यही है मन !


-वाकई यही है मन!!


बेहतरीन अभिव्यक्ति!

वन्दना said...

मन की यही तो स्थिति होती है……………सुन्दर अभिव्यक्ति।

बेचैन आत्मा said...

मनभावन अभिव्यक्ति.
...बधाई.

Vivek VK Jain said...

mann to mann hai....aapne jaisa kaha kuchh-kuchh vaisa hi, kuchh-kuchh usse b badkar.

जेन्नी शबनम said...

rashmi ji,
kshama ji,
sunil ji,
deepak ji,

aap sabhi ka bahut aabhar aapko rachna pasand aai.

जेन्नी शबनम said...

M Verma ji,
rachna ji,
sangeeta ji,
raajkumar ji,
indranil ji,

rachna kee sarahna keliye aap sabhi ki bahut aabhari hun.

जेन्नी शबनम said...

sameer ji,
vandana ji,
बेचैन आत्मा ji,
vivek ji,

sarahna keliye bahut bahut shukriya aap sabhi ka.