Tuesday, February 24, 2009

19. अनुत्तरित प्रश्न है (क्षणिका)

अनुत्तरित प्रश्न है (क्षणिका)

*******

अनुत्तरित प्रश्न है -
अहमियत क्या है मेरी ?
कच्चा गोश्त हूँ, पिघलता जिस्म हूँ
बेजान बदन हूँ, भटकती रूह हूँ
या किसी के ख़्वाहिशों की बुत हूँ ?
क्या कभी किसी के लिए इंसान हूँ ?

- जेन्नी शबनम (फ़रवरी 21, 2009)

________________________________

No comments: